admin Article अंतरराष्ट्रीय

Vews अंतरराष्ट्रीय समाचार हिन्दी: 25 हज़ार रुपया हुआ 1.36 करोड़ रुपये. इस शेयर ने दिया तगड़ा रिटर्न. अभी जाएगा और ऊपर 10 साल तक

एक कंपनी है भारत बिजली (Bharat Bijlee)। यह कंपनी ट्रांसफॉर्मर, इलेक्ट्रिक मोटर्स, लिफ्ट के लिए गियरलेस मशीन जैसे उत्पाद बनाती है। आइये जानते हैं कि कैसे और कितने दिनों में इस शेयर ने करोड़पति बनाया और आगे क्या हो निवेश की रणनीति। लेकिन इसके पहले जानिए इस शेयर का लेटेस्ट रेट।   जानिए किस रेट […]

@gulfhindi •  • 
0 |  Last seen: 2 months ago
25 हज़ार रुपया हुआ 1.36 करोड़ रुपये. इस शेयर ने दिया तगड़ा रिटर्न. अभी जाएगा और ऊपर 10 साल तक
25 हज़ार रुपया हुआ 1.36 करोड़ रुपये. इस शेयर ने दिया तगड़ा रिटर्न. अभी जाएगा और ऊपर 10 साल तक

Key Moments

एक कंपनी है भारत बिजली (Bharat Bijlee)। यह कंपनी ट्रांसफॉर्मर, इलेक्ट्रिक मोटर्स, लिफ्ट के लिए गियरलेस मशीन जैसे उत्पाद बनाती है। आइये जानते हैं कि कैसे और कितने दिनों में इस शेयर ने करोड़पति बनाया और आगे क्या हो निवेश की रणनीति। लेकिन इसके पहले जानिए इस शेयर का लेटेस्ट रेट।

 

जानिए किस रेट पर ट्रेड कर रहा है भारत बिजली का शेयर

शुक्रवार को शेयर बाजार बंद होने पर भारत बिजली का शेयर एनएसई पर 2408.55 रुपये के स्तर पर बंद हुआ था। उस दिन यह शेयर 4 फीसदी से ज्यादा यानी करीब 98 रुपये की तेजी के साथ बंद हुआ था। जहां तक एनएसई पर इस शेयर के एक साल के लो की बात है तो यह 1,320.00 रुपये रहा था। वहीं इस शेयर का एक साल का उच्चतम स्तर 2,439.95 रुपये का रहा है। इस कंपनी की इस वक्त मार्केट कैप करीब 1,361 करोड़ रुपये है।

अब जानिए कैसे 25,000 रुपये बने 1 करोड़ रुपये से ज्यादा

भारत बिजली के शेयर का रेट 19 अक्टूबर 2001 को 5.85 रुपये के स्तर पर ट्रेड हो रहा था। जिसका रेट बढ़कर अब 2,439.95 रुपये के स्तर पर आ चुका है। इस हिसाब से देखा जाए अगर किसी ने 2001 में अगर इस शेयर में 25000 रुपये का निवेश किया होगा, तो उसकी वैल्यू अब 1 करोड़ रुपये से ज्यादा की हो गई है।

 

जानिए पॉवर सेक्टर पर जानकारों की राय

भारत बिजली का शेयर पॉवर सेक्टर से जुड़ा हुआ है। वहीं जानकारों की राय पॉवर सेक्टर के बारे में काफी अच्छी है। जानकारों के अनुसार जैसे-जैसे जीडीपी बढ़ेगी देश में बिजली की खपत बढेगी। इसके अलावा इलेक्ट्रिक वाहनों की मांग और रिएन्यूबल एनर्जी पर बढ़ते फोकस के चलते भी पॉवर सेक्टर में बड़े पैमाने पर निवेश आता रहेगा। इसका फायदा कंपनी को मिलेगा।


हमसे अन्य सोशल मीडिया साइट पर जुड़े