admin Article अंतरराष्ट्रीय

Vews अंतरराष्ट्रीय समाचार हिन्दी: यहां से बिना TICKET ही कर सकते हैं रेल यात्रा, free सुविधा का आप भी उठाएं लाभ, बिहार में अनोखा

इस रेलवे स्टेशन से बिना टिकट के ही करें यात्रा  अगर आप बिना टिकट के यात्रा करना चाहते हैं तो यह संभव है। यहां पर एक ऐसा रेलवे स्टेशन पर मौजूद है जहां से बिना टिकट की यात्रा कर सकते हैं। हालांकि हर यात्री कहीं न कहीं बिना टिकट के यात्रा का सपना देखता है। […]

@vews-world •  • 
0 |  Last seen: 2 months ago
यहां से बिना TICKET ही कर सकते हैं रेल यात्रा, free सुविधा का आप भी उठाएं लाभ, बिहार में अनोखा
यहां से बिना TICKET ही कर सकते हैं रेल यात्रा, free सुविधा का आप भी उठाएं लाभ, बिहार में अनोखा

Key Moments

इस रेलवे स्टेशन से बिना टिकट के ही करें यात्रा 

अगर आप बिना टिकट के यात्रा करना चाहते हैं तो यह संभव है। यहां पर एक ऐसा रेलवे स्टेशन पर मौजूद है जहां से बिना टिकट की यात्रा कर सकते हैं। हालांकि हर यात्री कहीं न कहीं बिना टिकट के यात्रा का सपना देखता है। वहीं यह भी डर रहता है कि कहीं पकड़ा न जाए वरना लेने के देने पड़ जायेंगे।

फिर भी यात्रियों को होती है असुविधा 

इस रेलवे स्टेशन पर टिकट लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आप बिना टिकट लिए ट्रेन पर चल सकते हैं। लेकिन यात्री कभी इस सुविधा से खुश नहीं हुए क्योंकि इसके कारण उन्हें खूब असुविधा उठानी पड़ी। आइए जानते हैं कि जब इस रेलवे स्टेशन से लोगों को मुफ्त यात्रा की सुविधा मिलती है इसके बावजूद भी उन्हें क्यों परेशानी का सामना करना पड़ता है?

जब आप इस रेलवे स्टेशन पर जाएंगे तो करीब सभी तरह की सुविधा मौजूद है जो एक रेलवे स्टेशन पर मिलती है। टेबल, कुर्सी और कर्मचारी सब दिखेंगे लेकिन जब आप टिकट कटाने के लिए टिकट काउंटर ढूंढेंगे तो गड़बड़ समझ आएगी।

टिकट काउंटर ही नहीं है यहां

टिकट काउंटर न होने की वजह से यात्रियों को यहां से बिना टिकट के ही यात्रा करना पड़ जाता है। वह चाहते हुए भी टिकट नहीं कटा पाते हैं और आगे उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ता है। आगे जाकर उन्हें जुर्माना देना पड़ता है।

कहा गया है कि यह केवल स्टाफ के लिए है

यह रेलवे स्टेशन पूर्व रेलवे कोलकाता के आसनसोल मंडल अंतर्गत घोरपारण है। बिहार के जमुई जिले में पड़ता है। वहीं DRM Asansol परमानंद शर्मा का कहना है कि घोरपारण रेलवे स्टेशन यात्रियों के लिए नहीं है। यह केवल स्टाफ के लिए है। स्थानीय लोगों ने यहां टिकट काउंटर खोलने की कोशिश की लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। ग्रामीणों की बात बस सुनी जाती है रेलवे टिकट काउंटर बनाने की दिशा में कोई कदम नहीं उठाया जाता है।

 


हमसे अन्य सोशल मीडिया साइट पर जुड़े