admin Article भारत

Vews भारत समाचार हिन्दी: मप्र : पानी की टंकी से क्लोरीन लीक होने से भोपाल में अफरा-तफरी

मध्य प्रदेश के भोपाल में बुधवार देर रात एक टैंक से क्लोरीन गैस के रिसाव के बाद कई लोगों ने आंखों में जलन और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत

@the-siasat-daily •  • 
0 |  Last seen: 2 months ago
मप्र : पानी की टंकी से क्लोरीन लीक होने से भोपाल में अफरा-तफरी
मप्र : पानी की टंकी से क्लोरीन लीक होने से भोपाल में अफरा-तफरी

Key Moments

मध्य प्रदेश के भोपाल में बुधवार देर रात एक टैंक से क्लोरीन गैस के रिसाव के बाद कई लोगों ने आंखों में जलन और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत की।मामला सामने आने के बाद प्रशासन हरकत में आया और मेडिकल टीम मौके पर पहुंची।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार कम से कम चार-पांच लोगों को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

घटना भोपाल के ईदगाह इलाके में स्थित मदर इंडिया कॉलोनी की है। स्थिति का जायजा लेने मौके पर पहुंचे जिला कलेक्टर अविनाश लवानिया ने बताया कि टैंक से क्लोरीन गैस निकलने से लोग घबरा गए और वे अपने घरों से बाहर निकल आए।

“पानी में उच्च क्लोरीन के कारण समस्या हुई, हालांकि, स्थिति को नियंत्रण में लाया गया था। नगर निगम के अधिकारियों ने पानी में क्लोरीन का स्तर कम करना शुरू कर दिया है।

टंकी से पानी ओवरफ्लो हो गया और इससे लोगों को खुजली और सांस लेने में तकलीफ होने लगी। चार-पांच लोगों को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया है।चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने भी घटनास्थल का दौरा किया और बाद में उन्होंने अस्पताल में भर्ती लोगों से भी मुलाकात की।

“स्थिति अब नियंत्रण में है और लोगों को घबराना नहीं चाहिए। किसी व्यक्ति की आंखों में जलन या सांस लेने में दिक्कत की शिकायत तो नहीं है, इसकी जांच के लिए मेडिकल टीमें तैनात की गई हैं।

हम इस स्तर पर अधिक कुछ नहीं कह सकते क्योंकि हमें अभी यह पता नहीं चल पाया है कि यह समस्या कैसे हुई।

यह एक गंभीर मुद्दा है और मामले की जांच की जाएगी, ”सारंग ने हमीदिया अस्पताल में प्रेस से बात करते हुए कहा।इस घटना ने जनता में दहशत पैदा कर दी क्योंकि राज्य की राजधानी के लोगों ने 1984 में भी यही स्थिति देखी थी जब हानिकारक गैस के रिसाव ने कई लोगों की जान ले ली थी और हजारों लोग कई बीमारियों से बचे हुए थे।

1984 में 2-3 दिसंबर की दरम्यानी रात को भोपाल में एक यूनियन कार्बाइड कारखाने से गैस छोड़ी गई थी। इस घटना को दुनिया की सबसे बड़ी रासायनिक आपदा के रूप में जाना जाता है।

Source


हमसे अन्य सोशल मीडिया साइट पर जुड़े