पुत्र रत्न कैसे प्राप्त करें

इस आर्टिकल में बताया गया है कि लड़का पैदा करने के आयुर्वेदिक उपाय क्या है

अक्शर न्यूज़ पेपर में या अपने आसपास देखने को मिलता है कि किसी औरत को उसके पति ने सिर्फ इसलिए तलाक़ दे दिया की उसके यहां लड़का पैदा नही हुवा

या फिर लड़के चाह में कितनी को सात आठ लड़कियां पैदा हो जाती हैं

अगर घर परिवार मे पैसे की समस्या नही है तो कोई बात नही वरना ज़्यादा लड़किया होने पर उनका रिश्ता करना बहोत मुश्किल हो जाता है 

फिर कभी माँ बाप बूढ़े हो गए और सारी लड़कियां शादी हो के अपने घर चली गई तो बुढ़ापे में माँ बाप को कमा कर देने वाला कोई नही होता

ये सब तो गरीबों के साथ होता है अगर आदमी अमीर है तो उसको इतनी समस्या नही होती

मगर अमीरों को भी कुछ एसे सामाजिक और धार्मिक काम होते है जिनमे लड़के की ज़रूरत होती है

आयुर्वेद में और एलोपथि में लड़का लड़की कियूँ बनते हैं इसपर मतभेद है

मगर हमे मतभेद से मतलब नहीं हमारा काम हो जाये और क्या चाहिए

आयुर्वेद में बहोत सी एसी जड़ी बूटियों का वर्णन है जिस से पुत्र या पुत्री इच्छानुसार पैदा किये जा सकते हैं

पुत्री प्राप्ति के लिए कोई कभी हमारे पास आया नही

सब पुत्र प्राप्ति के लिए ही आते हैं

हम ने तकरीबन दस दस बारह साल में बहोत जड़ी बूटियों को आज़माया जो कामयाब रही उनको आपके सामने प्रस्तुत कर रहे हैं

जैसे ही गर्भ होने का पता चले वैसे ही ये दवाएं प्रयोग करनी शुरू कर दें

शिवलिंगी केबीज का पावडर 100 ग्राम

भांग के भीज़ का पावडर। 100 ग्राम

पुत्र जीवक के अंदर के बीज का पावडर 100 ग्राम

इन सब पावडर को अलग अलग रखें तकरीबन एक एक ग्राम सुबह शाम इनको 60 दिन तक प्रयोग करें

अगर पावडर खाने में कोई परेशानी हो तो सफ़ेद चने (छोले) के बराबर की गोलियां बना लें

गोलियां बनाने के लिए पावडर मे थोड़ा थोड़ा करके शहद मिलाते जाएं जब गोलियां बनाने लायक पावडर गूंध जाए तब गोलियां बना के ऊपर से थोड़ा और पावडर मिला ले ताकि गोलियां सूख जाए

और खराब न हो

साठ दिन तक सुबह शाम तीनो में से एक एक गोली खाली पेट या खाना हज़म होने के आधा घंटा बाद दी जा सकती है

ये बहोत पुराना और परीक्षित योग है अब तक सैंकड़ों लोगों को दिया जा चुका है

योग और भी हैं मगर आसान होने की वजह से यही लिखा गया है बाकी योग एसे हैं जिन्हें साधारण लोग नही तैयार कर सकते उसके लिए वैध की ज़रूरत होती है

अगर कोई अन्य सहायता की आवश्कता हो तो लेखक से बात कर सकते हैं

व्हाट्सएप  नंबर- 72-350-350-76 -पर

follow follow follow follow