सांसद आजम खान के बेटे अब्दुल्ला की बैरक खंगालने पहुंचे डीएम-एसपी, जानें पूरा मामला

सांसद आजम खान के बेटे अब्दुल्ला की बैरक खंगालने पहुंचे डीएम-एसपी, जानें पूरा मामला

सांसद आजम खां और उनके परिवार की मुश्किले कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। सीतापुर कारागार में गुरुवार दोपहर जिलाधिकारी ने पुलिस अधीक्षक के साथ मिलकर छापेमारी की। सांसद आजम खां के पुत्र अब्दुल्ला आजम खां की बैरक खंगाली गई। शासन के निर्देश पर कारागार की हर बैरक को खंगाला गया। पुलिस अधीक्षक इसे शासन द्वारा दिए गए आदेशों के तहत एक प्रक्रिया बता रहे हैं।  

गुरुवार दोपहर करीब एक बजे जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक के वाहन ने कारागार में प्रवेश किया। पीछे पुलिस के और वाहन भी थे। अचानक पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को आया देख कारागार में अफरातफरी मच गई। औचक निरीक्षण की जानकारी पाकर जेल अधीक्षक सुरेश कुमार और जेलर आरएस यादव बाहर आ गए और जिलाधिकारी विशाल भारद्वाज और पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह को अंदर ले गए। उनके साथ एएसपी डॉ. राजीव दीक्षित, अतिरिक्त मजिस्ट्रेट सहित 11 थानों की पुलिस फोर्स भी थी।

सबसे पहले चहारदीवारी के भीतर सांसद आजम खां की बैरक खंगाली गई। इसमें आजम खां के पुत्र अब्दुल्ला आजम खां मौजूद थे। बैरक के भीतर चप्पे चप्पे की तलाशी ली गई। बताते हैं कि यहां पर कोई भी संदिग्ध सामान नहीं मिला। इसके बाद संयुक्त टीम ने अन्य बैरकों को खंगाला। कई बंदियों से जेल से जुड़ी जानकारी भी ली गई। जेल निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी द्वारा बिन्दुवार जानकारी भी ली गई। करीब एक घण्टे तक सभी अधिकारी जेल के भीतर रहे। जेल से निकलने के बाद एसपी आरपी सिंह ने बताया कि जेल के भीतर सांसद आजम खां के पुत्र की बैरक के अलावा अन्य बैरकों को भी खंगाला गया है लेकिन किसी भी बैरक में कोई भी संदिग्ध वस्तु नहीं मिली है।  

सीसीटीवी कैमरों को भी परखा 

जेल परिसर और जेल में लगे सीसीटीवी कैमरे पूरी तरह से सक्रिय हैं अथवा नहीं। इसको लेकर खास पड़ताल हुई। जानकारों की मानें तो आने वाले मुख्य द्वार और सांसद की बैरक के सामने लगे कैमरों पर खास निगाह दौड़ाई गई। 


हमसे अन्य सोशल मीडिया साइट पर जुड़े